गाज़ीपुर न्यूज़ स्वास्थ्य

गम्भीर रूप से घायल युवक को 108 एम्बुलेंस ने दिया नया जीवन

गाजीपुर, 05 सितंबर 2020
मौजूदा समय मे स्वास्थ्य कर्मियों के साथ ही एम्बुलेंस चालक और उस पर तैनात इमरजेंसी मेडिकल टेकनीशियन (ईएमटी) भी अपनी अहम भूमिका निभाने में कोई कसर नही छोड़ रहे हैं। इसका उदाहरण शुक्रवार देर रात देखने को मिला। जब रौज़ा इलाके के एक निर्माणाधीन काम्प्लेक्स में एक मजदूर जो अंधेरे में काम करने की वजह से गिर गया उसके पेट मे तीन सरिया आर-पार हो गए। इसकी जानकारी होने पर 108 एंबुलेंस की टीम तत्काल मौके पर पहुंची और मज़दूर का रेस्क्यू कर जिला अस्पताल पहुंचाया, जहाँ से प्रारम्भिक इलाज के बाद एंबुलेंस के माध्यम से ही ट्रामा सेंटर वाराणसी पहुंचाया गया। इसके बाद उसका इलाज शुरू हुआ।
108 एम्बुलेंस के प्रभारी प्रवीण श्रीवास्तव ने बताया कि शुक्रवार की तड़के क़रीब तीन बजे मोबाइल द्वारा लखनऊ के 108 कॉल सेन्टर पर घटना की जानकारी दी गयी और सहायता के लिए अनुरोध किया। लखनऊ से जिला अस्पताल गाजीपुर में तैनात 108 एम्बुलेंस के ईएमटी प्रदीप शुक्ला को जानकारी मिली कि ग़ाज़ीपुर शहर के रौज़ा के निकट युवक रामधारी उम्र 22 पुत्र सुग्रीव प्रसाद निवासी मोहम्मदाबाद रौजा, का एक कॉम्पलेक्स कार्य करते वक्त अर्धनिर्मित पिलर पर गिर गया है जिससे लोहे के सरिया उसके पेट के आर पार हो गए तथा हालत गंभीर है। लखनऊ कॉल सेंटर से सूचना मिलने पर 108 एम्बुलेंस के जिला प्रभारी के निर्देश पर ईएमटी प्रदीप कुमार शुक्ला ने त्वरित रिस्पॉन्स देते हुए पायलट संजय कुमार यादव के साथ घटना स्थल पर पहुंचकर पायलट के सहयोग से घायल युवक को ज़िला अस्पताल, गाजीपुर में भर्ती कराया। जहां युवक की गंभीर हालत को देखते हुए उसे ज़िला अस्पताल से बीएचयू के लिए रेफर कर दिया गया। इस गम्भीरता को देखकर तत्काल एएलएस की व्यवस्था की गई जिसके ईएमटी शुभम सिंह ने अपने पायलट बलराम यादव की मदद से रास्ते में पीड़ित की देखभाल करते हुए समय से बीएचयू ट्रामा सेंटर ले जाकर भर्ती कराया जिससे घायल युवक की जान बचाईं जा सकी।
प्रवीण ने बताया कि जनपद में 108 सेवा की 37 एंबुलेंस, 102 सेवा की 42 एंबुलेंस और तीन एडवांस लाइफ सपोर्ट (एएलएस) कार्यरत हैं और कोरोना के दौरान 108 सेवा की 11 एंबुलेंस और 1 एएलएस तैनात है जो दिन-रात लोगों की सेवा में जुटी हैं। एम्बुलेंस की सक्रिय भूमिका बीमार एवं घायल व्यक्ति की रक्षा करने में वरदान साबित हो रही है।